Angel Tax क्या है।

Table of Contents

Angel Tax:- यदि कोई अनलिस्टेड कंपनी फेयर मार्केट वैल्यू से ज्यादा रेट पर शेयर इश्यू करती है। तो कंपनी को इंश्यू के लिए फेयर मार्केट से जितनी ज्यादा रकम मिलती है। उसे दूसरे Source से हासिल Income माना जाएगा और उसी हिसाब से एंजल टैक्स लगता है। यह नयी स्टार्टअप कंपनी के शुरूआती दौर मे पूँजी उपलब्ध करवाता है और निवेश को प्रभावित करता है। इसलिए इसे एंजल Tax कहा जाता है।

Angel_tax_anilcomputers udaipur

सरकार को अनलिस्टेड और अनजान सी कम्पनियों मे निवेश के जरिए काले धन को सफेद करने की जानकारी मिलने पर यह कदम उठाया गया। इस  टैक्स का प्रावधान 2012 में पूर्व वित मंत्री प्रणव मुखर्जी  द्वारा लाया गया था।

Share with your friends

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on pinterest
Pinterest
Share on linkedin
LinkedIn

This Post Has 21 Comments

  1. Aasima khan

    Nice. Very useful. Easy to understand

  2. Sunil Jain

    New Information related To Tax. Thanks to Anil Comuters

  3. soniya

    Thanks

  4. bharti

    best

  5. Milan Sharma

    Nice…………………………………..:)..

  6. Nehal Sharma

    Thx for nice Blog

  7. Nehal Sharma

    Thx
    nice blog

  8. Bhagyashree Kumawat

    Thx nice blog

  9. lata sharma

    good…………..

  10. Bhanu Priya kumawat

    Thx nice blogs

  11. Kusum Sonawa

    Thx

  12. Neeilma jain

    very usrful

  13. Meena Nagda

    Helpful blogs

  14. Indera Sharma

    good

  15. harsha singhvi

    simple and valuble

  16. yogesh vaishnav

    Very helpful blog

  17. Ravina dangi

    very useful ………

  18. sushila goswami

    thanks sir

  19. JAGDISH KUMAR SALVI

    VERY USEFUL

  20. Shraddha

    Good

  21. Manish borana

    Good

Leave a Reply

Anil Computers

Anil Computers

Best computer Institute in Udaipur

Quiz_Anilcomputers1

सर्टिफिकेट  पाने के लिए अपने रिजल्ट का Screen shot नीचे दिये गये मोबाइल नम्बर पर send करें। साथ ही एक बार काॅल जरूर कर लेवें।


Notice: Undefined index: force_wall in /home/waapsols/public_html/anilcomputersudaipur/wp-content/plugins/ocean-extra/includes/widgets/facebook.php on line 155